UP Paryatan Yatra Yojana Apply 2021

UP Swami Vivekananda Etihasik Paryatan Yatra Yojana 2021 | यूपी स्वामी विवेकानंद पर्यटन यात्रा योजना आवेदन | UP Paryatan Yatra Yojana Apply | उत्तर प्रदेश पर्यटन यात्रा योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

क्या आप यूपी स्वामी विवेकानंद पर्यटन यात्रा योजना के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाह रहे है? यदि हाँ तो इस यह लेख आपके लिए ही है। UP Swami Vivekananda Etihasik Paryatan Yatra Yojana बहुत जल्द ही उत्तर प्रदेश राज्य सरकार द्वारा शुरू होने जा रही है। इस योजना के तहत, राज्य सरकार, राज्य के चयनित श्रमिकों को 12000 रुपये प्रदान करेगी। श्रमिक जो 6.5 लाख वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों और 20,500 कारखानों और कार्यशालाओं में काम कर रहे हैं, उन्हें धार्मिक यात्रा के लिए यह वित्तीय सहायता दी जाएगी।

इच्छुक लाभार्थी योजना के तहत आवेदन कर सकते हैं। वे सभी आवेदक जो यूपी ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना 2021 के लिए आवेदन करना चाहते है उन्हें सबसे पहले इस योजना से जुड़ी सभी जानकारी देखनी चाहिए जो नीचे इस लेख में दी गयी है।

Swami Vivekananda Etihasik Paryatan Yatra Yojana 2021/

योगी सरकार धार्मिक यात्रा करने के लिए उत्तर प्रदेश में 6.5 लाख व्यावसायिक प्रतिष्ठानों और 20,500 कारखानों और कार्यशालाओं के लिए नियोजित श्रमिकों में से प्रत्येक को 12,000 रुपये प्रदान करने जा रही है । पैसे स्थान्तरित करने की प्रक्रिया सरकार द्वारा 24 जनवरी को राज्य के स्थापना दिवस पर शुरू की जाएगी।

जब राज्य के श्रम कल्याण बोर्ड द्वारा UP Paryatan Yatra Yojana 2021 के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए, लगभग 1.5 करोड़ नामांकित मजदूरों से आवेदन आमंत्रित किये जायेगे। बोर्ड द्वारा यात्रा के लिए, अयोध्या, मेरठ के हस्तिनापुर, मथुरा, गोरखपुर के गोरखनाथ मंदिर, शाकुंभरी देवी और विंध्यवासिनी देवी के मंदिरों के साथ वाराणसी, प्रयागराज जैसे धार्मिक शहरों का चुनाव किया है इसके साथ ही आगरा की यात्रा की भी अनुमति दी गयी है।

10 नवंबर को – आरएसएस के विचारक दत्तोपंत ठेंगडी की जयंती के शुभ अवसर पर इस योजना की परिकल्पना की गई थी। आपकी जानकारी के लिए बता दे की दत्तोपंत ठेंगडी वह व्यक्ति है जिन्होंने भारतीय मजदूर संघ (BMS) की स्थापना की थी।

UP Paryatan Yatra Yojana Apply 2021

उत्तर प्रदेश स्वामी विवेकानंद पर्यटन यात्रा योजना 2021 आवेदन

यूपी स्वामी विवेकानंद पर्यटन यात्रा योजना आवेदन पत्र भरने की प्रक्रिया 24 जनवरी 2020 को यूपी राज्य स्थापना दिवस से शुरू होगी। राज्य का श्रमिक कल्याण बोर्ड लगभग 1.5 करोड़ मजदूरों से आवेदन आमंत्रित करेगा। वे श्रमिक जो बोर्ड के साथ नामांकित हैं, उन मज़दूरों की धार्मिक यात्रा के लिए 12,000 रुपये का लाभ योजना के तहत का लेने के लिए, पंजीकरण फ़ॉर्म भरना होगा।

योजना से सम्बंधित अधिकारिओ से मिली जानकारी के अनुसार यह उम्मीद की जाती है कि इस योजना का एक संयुक्त रूप भी होगा, जो यूपी राज्य श्रम कल्याण बोर्ड की अन्य सभी कल्याणकारी योजनाओं के लिए होगा।

Highlights of UP Etihasik Paryatan Yatra Yojana

नामस्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना
आरम्भ की गईमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा
वर्ष2021
विभागश्रम विभाग, उत्तर प्रदेश
लाभार्थीउत्तर प्रदेश के श्रमिक
आवेदन की प्रक्रियाऑनलाइन
उद्देश्यश्रमिकों को धार्मिक यात्रा के लिए आर्थिक मदद देना
लाभधार्मिक यात्रा के लिए आर्थिक मदद
श्रेणीउत्तर प्रदेश सरकारी योजनाएं
आधिकारिक वेबसाइटयहां क्लिक करें

Swami Vivekananda Etihasik Paryatan Yatra Yojana 2021 पात्रता मापदंड

UP Swami Vivekananda Etihasik Paryatan Yatra Yojana के लिए आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों को नीचे दी गई पात्रता मानदंडों को पूरा करना होगा

  • केवल उत्तर प्रदेश राज्य का स्थायी निवासी इस योजना के तहत आवेदन कर सकता है।
  • आवेदक एक पंजीकृत मजदूर होना चाहिए जिसने यूपी स्टेट लेबर वेलफेयर बोर्ड के साथ अपना पंजीकरण पूरा कर लिया हो।
  • उम्मीदवार वर्तमान में वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों, कारखानों, कार्यशालाओं के तहत नियोजित होना चाहिए

यूपी ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना 2021 के तहत पहचान की गई जगहें

मजदूरों की धार्मिक यात्रा के लिए, यूपी लेबर वेलफेयर बोर्ड ने कई स्थानों की पहचान की है, जो इस प्रकार हैं:

  • अयोध्या धार्मिक नगरी
  • मथुरा धार्मिक नगरी
  • प्रयागराज धार्मिक शहर
  • वाराणसी धार्मिक नगरी
  • मेरठ में हस्तिनापुर शहर
  • गोरखपुर में गोरखनाथ मंदिर
  • शाकुंभरी देवी और विंध्यवासिनी देवी के मंदिर

राज्य सरकार आगरा में धार्मिक यात्रा के लिए मजदूरों को भी अनुमति देगी और स्वामी विवेकानंद इटाहसिक पारीतन यात्रा योजना 2021 के तहत 12,000 रुपये प्रदान करेगी। इन शहरों या मंदिरों के अलावा, कुछ और जगहें होंगी जिनके लिए लाभार्थियों को मज़दूरों की धार्मिक यात्रा के लिए 12,000 रुपये की योजना के लिए आवेदन फॉर्म भरना होगा।

UP Paryatan Yatra Yojana 2021

यूपी स्वामी विवेकानंद पर्यटन यात्रा योजना की अवधारणा पहले आरएसएस के विचारक, दत्तोपंत ठेंगडी की जयंती पर 10 नवंबर 2020 को की गई थी। दत्तोपंत ठेंगडी जी ने भारतीय मजदूर संघ (BMS) की स्थापना की थी, BMS एक ट्रेड यूनियन संगठन है, जो समर्थक श्रम नीतियों को लागू करने के लिए एक दबाव समूह के रूप में कार्य करता है।

यूपी स्वामी विवेकानंद पर्यटन यात्रा योजना में लाभार्थियों को मिलने वाली राशि

राज्य सरकार ने यूपी स्वामी विवेकानंद पर्यटन यात्रा योजना  में सहायता राशि के रूप में 12,000 रुपये हस्तांतरित करने का फैसला किया है। तीर्थ यात्राओं के लिए मजदूरों के लिए 12,000 रुपये की राशि, योजना के तहत सीधे चयनित लाभार्थियों के बैंक खातों में जमा की जाएगी। मजदूरों की धार्मिक यात्रा की योजना का नाम स्वामी विवेकानंद के नाम पर रखा गया है और यह अपनी तरह की पहली पहल होगी।

UP Swami Vivekananda Etihasik Paryatan Yatra Yojana का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि मजदूरों को उनके दैनिक कार्यो से समय मिले। इसके अतिरिक्त, श्रमिक स्वामी विवेकानंद इटिहासिक पारीतन यात्रा योजना के माध्यम से देश की समृद्ध सांस्कृतिक और धार्मिक विरासत से भी परिचित होंगे। राज्य सरकार मजदूरों के बीच 12,000 रुपये की योजना को लोकप्रिय बनाने में मदद करेगी।

UP Paryatan Yatra Yojana 2021 के लाभार्थियों की कुल संख्या  1.5 करोड़ हैं जो वर्तमान में लगभग 6.5 लाख वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों और 20,500 कारखानों और कार्यशालाओं में कार्यरत हैं।

यूपी में ज्योतिबा पुष्प मजदूर बेटी विवाह योजना

उत्तर प्रदेश राज्य सरकार ने पहले से ही श्रमिक समुदाय के कल्याण के लिए कई अन्य योजनाओं को लागू किया  है।

  • समाज सुधारक और दलित आइकन ज्योतिबा फुले के नाम पर मजदूरों की बेटियों की शादी के लिए योजना।
  • पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर योजना का उद्देश्य तकनीकी शिक्षा को आगे बढ़ाने के लिए मजदूर बच्चों की मदद करना है।
  • स्वतंत्रता सेनानी और पत्रकार गणेश शंकर विद्यार्थी के नाम पर प्रोत्साहन योजना।
  • राजा हरिश्चंद्र के नाम पर मजदूरों के परिजनों को आर्थिक मुआवजा।
  • दत्तोपंत ठेंगडी के नाम पर रखे गए मजदूरों के अंतिम संस्कार को पूरा करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करने की योजना।
  • उत्तर प्रदेश में मजदूर कल्याण के लिए 2021 योजनाएं शुरू की जाएं

श्रम विभाग 2021 से 3 और योजनाएं शुरू करेगा

  • स्वामी विवेकानंद के नाम पर धार्मिक यात्रा।
  • पूर्व भारतीय क्रिकेटर और यूपी के मंत्री स्वर्गीय चेतन चौहान के नाम पर मजदूरों के बीच खेल गतिविधियों को प्रोत्साहित करने की योजना।
  • प्रसिद्ध साहित्यकार महादेवी वर्मा के नाम पर खरीदी जाने वाली किताबों की मदद करने की योजना।

UP Paryatan Yatra Yojana 2021 पात्रता मानदंड

  • केवल उत्तर प्रदेश के स्थायी निवासी मजदूर ही इस योजना का लाभ ले सकते हैं।
  • असंगठित क्षेत्र के पंजीकृत मजदूरों को ही इस योजना का लाभ दिया जायेगा।
  • श्रम विनिर्माण बोर्ड के साथ पंजीकृत श्रमिक ही इस योजना के तहत लाभ लेने के लिए पात्र है।

आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • आईडी कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • नया पासपोर्ट आकार का फोटो
  • मोबाइल नंबर

स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के तहत आवेदन कैसे करे?

इस योजना के लिए आवेदन 24 जनवरी 2021 को शुरू होगा। यूपी का राज्य श्रम कल्याण बोर्ड लगभग 1.5 करोड़ मजदूरों के लिए आवेदन पत्र आमंत्रित करेगा। बोर्ड के साथ नामांकित श्रमिक योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं। यह योजना अन्य यूपी कल्याण योजनाओं के साथ संयुक्त है।

  • सबसे पहले आपको नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके एप्लीकेशन फॉर्म को डाउनलोड कर लेना है।
UP Paryatan Yatra Yojana Apply 2021
  • इस एप्लीकेशन फॉर्म के डाउनलोड होने के बाद आपको इसका प्रिंट निकाल लेना है।
  • अब आपको इस एप्लीकेशन फॉर्म में सभी महत्वपूर्ण दस्तावेजों को संलग्न करके फॉर्म को श्रम विभाग में जाकर जमा करा देना है।
  • इस तरह से आप दिए गए चरणों को फॉलो करके Swami Vivekananda Etihasik Paryatan Yatra Yojana के तहत आवेदन कर सकते हैं।

महत्वपूर्ण डाउनलोड

Download UP Paryatan Yatra Yojana Form PDF

हम उम्मीद करते हैं की आपको स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना से सम्बंधित जानकारी जरूर लाभदायक लगी होंगी। इस लेख में हमने आपके द्वारा पूछे जाने वाले सभी सवालो के जवाब देने की कोशिश की है।

यदि अभी भी आपके पास इस योजना से सम्बंधित सवाल है तो आप हमसे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं। इसके साथ ही आप हमारी वेबसाइट को बुकमार्क भी कर सकते हैं।

पूछे गए प्रश्नों के उत्तर

UP Swami Vivekananda Etihasik Paryatan Yatra Yojana क्या है?

यूपी स्वामी विवेकानंद पर्यटन यात्रा योजना के तहत राज्य सरकार धार्मिक स्थलों की यात्रा के लिए कुछ कामों, कारखानों या विज्ञापनों आदि में काम करने वाले मजदूरों को पैसा प्रदान करेगा।

इस योजना के तहत मजदूर को कितनी राशि दी जाएगी?

योजना के तहत लाभार्थी मजदूरों को 12000 रुपये की राशि विभि धार्मिक स्थलों पर जाने के लिए दी जाएगी।

इस योजना के तहत कितने श्रमिकों को लाभ मिलेगा?

लगभग 1.5 करोड़ श्रमिक यूपी ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना 2021 का लाभ प्राप्त कर सकेंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *