BPO क्या है?

दोस्तों पिछले कुछ सालों में Indian Economy की रफ़्तार भले ही तेज़ हुई होने के साथ ही रोज़गार के अवसर भी लगातार बढ़ते जा रहे है जिसमे BPO ने Youngsters को रोज़गार देने में पूरी तरह से मदद की है।


आज के समय में कम Skills के साथ Job पाना बहुत मुश्किल हो गया है।इसलिए आज के युवा BPO Sector की ओर तेजी से रुख़ कर रहे है और अपना करियर बना रहे है जिसका मुख्य कारण Easily Job मिलना और कम Skills के साथ ही अच्छी Salary मिलना भी है। आज युवाओं के लिए यह भी एक शानदार Career Option बनता जा रहा है।
BPO Sector में बहुत सारे Services उपलब्ध होते हैं जैसे की Payroll, Human Resources (HR), Accounting और Customer/Call Center Relations इत्यादि.
यह प्रकिया मुख्य रूप से सेवाओं की आउटसोर्सिंग (Outsourcing) के लिए प्रयोग की जाती है।


यह अपने Business को सुव्यवस्थित करने के सबसे लोकप्रिय और प्रभावी तरीकों में से एक है चुनिंदा कार्यों के लिए BPO मॉडल को अपनाना है। दुनिया के कुल BPO Market का करीब 56 प्रतिशत भारत में है। निश्चित रूप से भारत में  BPO Sector बढ़ रहा है। इससे मिलने वाले राजस्व में 54 प्रतिशत की बढ़त भी दर्ज की गई है। बीते वर्षभारतीय BPO Services में 50 प्रतिशत की बढ़त दर्ज की गई है।


अब तक न जाने कितने बार आपके मन मे ये सवाल आया होगा कि ये BPO क्या है।..?? और यह हमारे व्यवसाय को कैसे मदद कर सकता है।..??
अपने इस सवालो का जवाब पता लगाने के लिए आगे पढ़ते रहे।..

BPO क्या होता है।..??

Call Center को BPO भी कहा जाता है।
BPO का Full Form – Business Process Outsourcing है।
इसे Information Technology Inbeld Services (ITES) के नाम में भी जाना जाता है. BPO एक Business Management है जिसमें एक संगठन किसी अन्य Company को काम करने के लिए काम पर रखता है 
BPO और Call Center यह दोनों एक ही होते है। Call Center Customer Service देने के लिए जाना जाता है।
BPO एक ऐसी Outsource Process है जिसमें Third Party Provider को Contract के आधार पर Management में शामिल किया जाता है।
अगर हम बहुत ही सरल शब्दों में बात करें तो यह एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें हम Contract के द्वारा कुछ Business Work जैसे Customer Support, Back Office Work , IT Support आदि को किसी तीसरी सेवा प्रदाता कंपनी ( Third Party Service Provider) को दे देते हैं।
ये सब कार्य करना फिर उनकी ही ज़िम्मेदारी होती है। कार्य को किसी Third Company को देने के Process को ही Outsourcing कहते हैं।
BPO में अगर किसी Company को देश से बाहर Contract किया जाता है तो उसे Offshore Outsourcing कहते है और यदि किसी पड़ोसी देश की Company से Contract किया जाता है तो उसे Nearshore Outsourcing कहते है।
कोई भी Company अपने काम को दो मुख्य क्षेत्रों में अपनी Business Process को Outsourced करती हैं।

1.Back Office Work

2.Front office work

BPO का इतिहास..??

दोस्तों अगर हम BPO Company के इतिहास की बात करे तो तो यह Concept सन् 1962 मे 
सबसे पहली बार Ross Pert
ने शुरू किया था जब उन्होंने Electronic Data Systems (EDS) की स्थापना की। EDS अपने Prospective Client से ये बात कहती थी ,
“ आप भले ही Product की Designing, Manufacturing और Selling से परिचित हों , लेकिन हम Information Technology की Management से अच्छे तरीके से परिचित हैं हम आपको वो Information Technology बेच सकते हैं जिनकी आपको जरुरत है , लेकिन बदले में आपको हमें इस Service के लिए Monthly कुछ Fees देनी होगी लेकिन इसके साथ ही यहाँ गौर करने वाली बात ये है की ये Service कम से कम 2 से 10 सालों तक का होना चाहिए।
और Ross Pert के इसी Concept के साथ BPO की शुरुआत हुई।
और समय के साथ उसमे बहुत से परिवर्तन आते गए आज के समय मे Business के क्षेत्र मे यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

BPO का Full Form..??

BPO को इंग्लिश में

BPO – Business Process Outsourcing कहतें हैं।

और हिंदी में इसे व्यावसायिक प्रक्रिया आउटसोर्सिंग कहा जाता है।
जब एक Company अपने सारे काम खुद नहीं कर पाती हैं तब वो दुसरे Companies की Help लेती हैं जो की उस काम में Expert हो ऐसा करने से उन्हें अपने काम में बड़ा लाभ होता है। जिससे उन्हें अपने काम समय में मिल जाते हैं और उनकी Cost भी सामान्य होती है।

BPO की आवश्यकता..??

दोस्तो आप मे से बहुत लोग ये सोच रहे होगे कि BPO कि आवश्यकता क्यो पड़ती है या किसे पड़ती है तो मै आपको बता दू कि
BPO छोटे और मीडियम बिजनेस के लिए बहुत
लाभदायक होता है।
यह बड़े बिजनेस संगठनों के लिए कम कीमत पर अधिक कुशलता से रोजमर्रा के Business Record का Management करने के लिए मदद करता है।
उनके Record को सुरक्षित रखने एवं उसे Accurate तरीके से Manage और Update किया जा सकता है।

BPO Center के प्रकार..??

BPO Center के प्रकार
दोस्तों आपकी जानकारी के लिए बता दे की BPO Call Center दो तरह के होते है।
एक International Call Center और दूसरा Domestic Call Center होता है। International Call Center में Job पाने के लिए आपको English अच्छे से बोलना आनी चाहिये।

जबकि Domestic Call Center में अगर आपकी English ज्यादा अच्छी नही है तब भी आपको Job आसानी से मिल जाएगी ,
क्योंकि Domestic Call Center में अधिकतर Customers हिंदी में बात करने वाले ही मिलते है। इसके अलावा Computer का Basic Knowledge और Typing Speed भी अच्छी होना बहुत ही ज़रूरी है।

BPO के क्षेत्र करियर..??

BPO में करियर –
दोस्तों BPO Companies में BPO Executive के अलावा और भी कई Jobs होते है जिनमें आप आराम से Job कर सकते है।
BPO Companies  में Job की यह सारी संभावनाएँ होती है आप इन सभी Field में Job कर सकते है।

Operations Management

Content Management

Research And Analytics

Legal Services

Training And Consultancy

Data Analytics

BPO के क्षेत्र मे नौकरिया

BPO नौकरी के प्रकार
1. Back Office Outsourcing
जिसमेंं आंतरिक व्यापार कार्य जैसे मानव संसाधन या वित्त और लेखांकन शामिल है 
जिसमें आपको Biling या क्रय जैसे आंतरिक व्यावसायिक कार्यों और फ्रंट ऑफिस आउटसोर्सिंग डेटा प्रविष्टि, डेटा प्रबंधन, सर्वेक्षण, भुगतान प्रक्रिया, गुणवत्ता आश्वासन और अकाउंट लेख समर्थन जैसे कार्यों का प्रबंधन करने में संगठन सेवाएं (Organization Services)
प्रदान करती है।

2. Front Office Outsourcing
जिसमेंं ग्राहक सम्बंधित सेवा जैसे संपर्क सेवा केंद्र। यह Customer के Service Communication से जुड़ी हैं।
Telephonic Conversation , Email , Fax और Customer के साथ Communication के अन्य रूप शामिल हैं।
Front Office Outsourcingv प्रदाता की सेवा सूची में निम्नलिखित चीज़े शामिल हैं।

टेलीमार्केटिंग( Telemarketing)

ग्राहक सेवा और सहायता

Technology / Help Desk

नियुक्ति समयबद्धन (Appointmrnt Scheduling)

भीतर / बाहर बिक्री

बाजार अनुसंधान

BPO मे शैक्षिक योग्यता..??


BPO में कार्य करने के लिए आपको बहुत ज़्यादा शिक्षित व अनुभवी होने की आवश्यकता नहीं है। आप स्कूल या कॉलेज की पढ़ाई ख़त्म करने बाद सीधे यहाँ नौकरी पा सकते हैं।
जो युवा Part Time Job की तलाश कर रहे है उनके लिए BPO एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है।
आपकी Educational Qualifications कम से कम 12th, Undergraduate, Graduate पास होना चाहिए।
हम ये कह सकते है कि ये Sector उन लोगों के लिए बहुत अच्छा है जो की Freshers हैं।
जिन्हे नौकरी की तलाश है जिन्हें काम के विषय में कोई भी जानकारी नहीं है इस क्षेत्र मे उन्हें अच्छा Exposure मिलता है और उसके साथ ही एक अच्छा Experience भी होता है।
आपको यहा Client के हिसाब से काम करना सिखाया जाता है।..।।

BPO Candidate की Skills

दोस्तो आज के समय BPO Sector मे बहुत सी Vacancy आ रही है।
और आजकल बहुत-सी Jobs Sites जैसे Monster, Naukri, Indeed आदि BPO Job उपलब्ध कराती हैं।
आप इन साइट्स मे Registration करवा कर भी आसानी से जॉब ढुंढ सकते है।

आपकी Educational Qualifications कम से कम 12th, Undergraduate, Graduate पास होना चाहिए।

आपका Communication Skills बहुत अच्छा होना चाहिए।
एक अच्छा कम्युनिकेशन स्किल होना इस क्षेत्र में बहुत मायने रखता है ‌

आपको Hindi और English भाषा का अच्छा Knowledge हो

Computer और Typing का काफी अच्छा ज्ञान हो।

साथ ही आपके अंदर धैर्य पुर्वक सुनने और समझने की क्षमता होनी चाहिए।

आप अपनी बात को स्पष्ट रूप से साबित कर सके।

हमेशा खुद को Market के साथ Updated रखना चाहिए और Trends को Follow करना चाहिए।

ज्यादातर BPO Center Shift Based होते है यह दो Shift मे अपना कार्य करते हैं।
आपको दोनो Shift मे काम करने के लिए हमेशा तैयार होगा।

आपके अंदर अपने स्वयं को किसी भी Environment और Time में खुद को Adjust करने की काबिलियत होनी चाहिए।

BPO के क्षेत्र मे वेतन


BPO में वेतन आपको आप के काम अनुसार दिया जाता है। एक Customer Care Executive के रूप में आप Average 1 लाख से 2 लाख तक वार्षिक वेतनमान पा सकते हैं।
जो उम्मीदवार बहुत ही Experienced होते हैं। और अपना काम बहुत ही अच्छी तरह से करते हैं। उन्हें Promotion दिया जाता है। जहाँ उनकी Post और Salary दोनों में बढ़ोतरी होती है। यदि आप सर्वश्रेष्ट सेवाएं प्रदान करे। तो आपका वेतन बहुत ही जल्द बढ़ जाता है।
ये Candidate के ऊपर निर्भर करता है की वो कितनी जल्दी अच्छे Promotions ले सकने की काबिलियत रखता है‌।..।।

BPO Sector के Negative और Positive Facts

दोस्तों Field कोई भी हो Business कोई भी हर जगह कुछ न कुछ Positive और Negative Facts होते ही हैं इस तरह इस क्षेत्र के भी कुछ पहलू नकारात्मक तो कुछ सकारात्मक है।
आइए हम आपको बताते है इस क्षेत्र से जुड़े कुछ Negative और Positive पहलूओ के बारे मे..।।

Positive पहलू

1. BPO Sector के विकास ने न केवल भारत बल्कि एशिया के कई देशों में विकास की रफ़्तार को तेज़ कर दि है।

2. एक नई बाजार का निर्माण और उसमें मजबूती

3. Consumer और Products के विषय में Smarter Analytics बनाया जा सकता है।

4. Business Value और Strategy भेदभाव का निर्माण

5. यह क्षेत्र युवाओ को नौकरी के कई अवसर प्रदान करता हैं। BPO में प्रवेश करने के लिए आपके पास विकल्पों की कमी नहीं है।

6. वर्षों को गरीबी में रहने वाले कई परिवारों की रोजी-रोटी का इंतजाम इस क्षेत्र ने किया।

Negative पहलू

1. Service Providers के ऊपर ज्यादा Overdependence करना पड़ जाता है।

2. Data की Privacy की Breach होने की संभावना ज्यादा होती है।

3. काम का दबाव अधिक होने के कारण कई बार व्यक्तियों के दिनचर्या में गड़बड़ी होने की वजह से चिकित्सकीय मार्गदर्शन की ज़रुरत पड़ जाती है।


दोस्तों आज की Post में मैंने आपको बताया BPO Sector vक्या है और उससे जुड़े कुछ महत्वपूर्ण पहलुओं के बारे में आपको मेरा ये पोस्ट जरुर बताएं।
साथ ही अगर आकैसा लगा मुझेंपके पास BPO से जुड़ा
कोई सवाल या जिज्ञासा है तो आप वो भी हमें
बता सकते हैं।


Read Our Other Articles

Mukhyamantri Gram Parivahan Yojana

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *