BAMS Kya Hai? BAMS Full Form – जानिए BAMS Course Details in Hindi में।


BAMS Kya Hai: आयुर्वेद World की सभी Therapy System में से एक है BAMS। इस Therapy द्वारा ना सिर्फ बीमारी को ठीक किया जाता है बल्कि बीमारी को जड़ से खत्म भी कर दिया जाता है। आयुर्वेद में शिक्षा प्राप्त करने के लिए BAMS Course करना होता है। क्या आप भी आयुर्वेदिक डॉक्टर बनना चाहते है?… तो इसके लिए आपको BAMS Degree Program करना होगा।

आइये जानते है अब BAMS Full Form तथा  B.A.M.S Course Details in Hindi पूरी जानकारी।

BAMS Kya Hai

विषयों की सूची

BAMS आयुर्वेद Certified Course है, जो Ayurvedic Medical College के लिए दी जाने वाली Undergraduate Degree है। देश में इस कोर्स को Central Council Of Indian Medicine के द्वारा मान्यता दी जाती है।

BAMS kya hai

BAMS फुल फॉर्म

BAMS Ka Full Form “Bachelor Of Ayurvedic Medicine & Surgery” होता है। BAMS Full Form in Hindi “बैचलर ऑफ आयुर्वेद मेडिसिन एंड सर्जरी” है।

अगर आप BAMS Course करना चाहते है तो इसके लिए पहले B.A.M.S Course Details in Hindi की पूरी जानकारी लेना आवश्यक है की इस Course में होता क्या है।

BAMS कोर्स का विवरण हिंदी में

आप बहुत से Medical College से B.A.M.S में Admission ले सकते है। BAMS Course Duration 5 साल 6 महीने का होता है। BAMS Course में आयुर्वेद के साथ ही आधुनिक दवाओं की शिक्षा भी शामिल होती है। भारतीय शिक्षा प्रणाली में B.A.M.S की Degree बहुत महत्वपूर्ण स्थान रखती है। इसमें छात्रों को Natural Herbs के द्वारा Treatment करना सिखाया जाता है।

BAMS Ke Bare Me Jankari तो आपको पता चल गई लेकिन दोस्तों आप शायद ही इस Course से होने वाले फ़ायदों से परिचित होंगे।

यह एक High Level का Course है तो इससे होने वाले फायदे भी बहुत ही बेहतरीन है।

BAMS Karne Ke Fayde (Benefits)

यदि आप BAMS Course करते है तो इससे आपको मुख्य तरह के फ़ायदे होंगे जो आपको आगे जानने को मिलेंगे।

  • बीएएमएस करके आयुर्वेदिक डॉक्टर बनने के बाद आपको बहुत ही शानदार Salary Provide की जाती है जो की 40,000 से 50,000 हो सकती है।
  • आप चाहे तो अपना खुद का भी Ayurvedic Medical खोल सकते है।
  • किसी आयुर्वेदिक Clinic में Junior Doctor के रूप में काम कर सकते है।
  • यह क्षेत्र ऐसा होता है जिसमें Research का भी बहुत काम होता है इसलिए यह Course करके Research से भी जुड़ सकते है।
  • अगर आप आयुर्वेदिक डॉक्टर बन जाते है तो इससे आपकी Life Style ही पूरी तरह से Change हो जाएगी और Society में भी एक अलग ही पहचान बन जाती है।

ऐसे और भी फायदे है जो बीएएमएस कोर्स करने के बाद आयुर्वेदिक डॉक्टर बनने पर होते है।

यह तो थे B.A.M.S करने के फायदे जो आपको BAMS Course करने के बाद मिलते है।

दोस्तों सभी Course को करने की कुछ Eligibility होती है। तो बीएएमएस कोर्स करने के लिए भी आपके पास कुछ आवश्यक योग्यताएं होनी चाहिए।

BAMS Kaise KareBAMS kaise kare

यदि आप आयुर्वेद में Degree प्राप्त करना चाहते है और बीएएमएस कोर्स करना है तो आपको BAMS Course Eligibility को पूरा करना होगा। आइये जानते है BAMS Ke Liye Kya Kare

  • BAMS Ke Liye Qualification

BAMS करने के लिए 12th Pass with Medical Science होना ज़रुरी है। 12th में आपके विषयों में Chemistry, Biology, Physics Subject होना चाहिए और 50% या इससे ज्यादा होना चाहिए।

BAMS में प्रवेश के लिए Minimum Age 17 साल है।

BAMS में Admission के लिए आपको इसकी कुछ प्रमुख परीक्षाओं में सफल होना पड़ता है। इसमें All India Entrance Exam के अलावा State Level पर विभिन्न प्रकार की प्रवेश परीक्षाएं आयोजित की जाती है।

B.A.M.S की Entrance Examinations का Syllabus 12th पर आधारित होता है। इसकी कुछ प्रमुख परीक्षाएं इस प्रकार है।

  • राष्ट्रीय आयुर्वेद प्रवेश परीक्षा संस्थान
  • उत्तराखंड स्नातकोत्तर मेडिकल प्रवेश परीक्षा
  • केरल राज्य प्रवेश परीक्षा
  • कॉमन एंट्रेंस टेस्ट (Cet), कर्नाटक
  • आयुष प्रवेश परीक्षा

तो आपको यह Exam Pass करनी होगी जिसके बाद आप बीएएमएस कोर्स कर सकते है।

तो अब जानते है…

BAMS फीचर्सBAMS Ki Fees

Government और Private Colleges में BAMS Course Fees Structure अलग-अलग होता है। इस Course का Fee Structure State Wise भी अलग-अलग होता है।

अगर Private College की बात करे तो साल भर की Fees 50,000 से 70,000 हो सकती है। पूरे साल की Fees के अलावा अगर Total Fees की बात करे तो 5 लाख से 6 लाख तक पूरी Fees हो सकती है।

चलिए अब देखते है की बीएएमएस कोर्स करने के लिए आपको कौन-कौन से Subjects की पढ़ाई करनी होगी।

बीएएमएस सिलेबस हिंदी में

तो आगे जो आपको Syllabus बताये जा रहे है वही आपको BAMS Course में आएँगे।

प्रथम वर्ष का सिलेबस

  • आयुर्वेद निरूपण
  • परीक्षा
  • Anumanapariksha
  • Dravya Vigyan Niyam
  • प्रतिक्षा परिक्षा
  • सामवया विज्ञानम्

द्वितीय वर्ष का सिलेबस

  • Dravya
  • Vyadhi Vigyan
  • Mishraka Gana
  • मूल पैथोलॉजी
  • प्रभा
  • रस वासा श्रोत के रोग
  • रुधिर

तृतीय वर्ष का सिलेबस

  • Ritucharya
  • निवारक जराचिकित्सा
  • पंच कोष सिद्धांत
  • दीनाचार्य
  • Janapadodhwamsa
  • महामारी विज्ञान
  • Garbha Vigyana

चौथा वर्ष पाठ्यक्रम

  • स्नेहना
  • Nirjantukaran
  • Bāhya Snehana
  • क्षर और क्षर कर्म
  • विरेचन कर्म
  • भौतिक चिकित्सा
  • मर्म

तो यह थे वो Course जो आपको बीएएमएस कोर्स में पढ़ने होंगे।

दोस्तों चाहे कोई सी भी Exam हो उसमें Success पाने के लिए आपको उसकी बेहतरीन तैयारी करनी होगी तभी आपको Success मिलेगी।

BAMS Ki Taiyari Kaise Kare

BAMS में Admission लेने के लिए आपको इसकी तैयारी पर ध्यान देना होगा की आप कैसे इसकी पढ़ाई करते है तो आइये जानते है इसके बारे में।

  • अगर आप चाहते है की बिना Coaching के ही आप पढ़ाई करे तो आप BAMS Ki Books लाकर Self Study भी कर सकते है।
  • Exam पास आने पर इतना Time नहीं होता है की पूरा Syllabus पढ़ा जा सके तो आप Notes बनाकर पढ़े और अगर Exam में ज्यादा Time बचा भी है तो भी Notes बनाकर पढ़ना ही बेहतर होता है।
  • आप जो भी पढ़ रहे है उसका लगातार Revision करते रहे इससे आपने जो भी याद किया है उसे आप भूलेंगें नहीं।
  • आप चाहे तो Coaching Classes भी Join कर सकते है। आपके मन में अगर किसी तरह के कोई Doubt रहते है तो वह आप Coaching Classes जाकर दूर कर सकते है।
  • आप Online भी Doctors के Articles पढ़ सकते है। जिससे की आपको अच्छे Tips मिल जाएँगे।
  • Internet के द्वारा आप Online पढ़ाई कर सकते है। यह एक बहुत अच्छा तरीका है Exam की तैयारी करने का।
  • सभी Subjects को लेकर एक Proper Planning करे और उनकी पढ़ाई करे। चाहे तो एक Time भी Decide कर सकते है की कौन सा Subject कब पढ़ना है।

तो इस तरह आप BAMS Exam की तैयारी कर सकते है। यह Tips आपकी बहुत Help करेंगे BAMS Exam देने में।

क्या आपने BAMS Course कर लिया है और अब आप इस बात से परेशान है की इसके बाद आप क्या करना चाहिए तो जानिए…

BAMS Ke Bad Kya Kare (BAMS Scope)

BAMS Course करने के बाद आपके मन में भी यह ख्याल आया होगा की BAMS Karne Ke Bad Kya Kare

क्या आप भी Confuse हो रहे है और समझ नहीं पा रहे है की BAMS के बाद क्या करे तो हम आपको बता देते है की इस Field में बहुत Scope है, तो क्या कर सकते है BAMS Course के बाद जानते है आगे।

  • चिकित्सक
  • उत्पाद प्रबंधक
  • चिकित्सक प्रतिनिधि
  • नर्सिंग होम में काम करते हैं
  • औषधालयों
  • अनुसन्धान संस्थान
  • ड्यूटी डॉक्टर पर
  • हेल्थकेयर समुदाय में काम करते हैं
  • क्षेत्र बिक्री प्रबंधक
  • बिक्री प्रतिनिधि
  • कैटेगरी प्रबंधक
  • फार्मेसिस्ट
  • व्याख्याता

तो आप BAMS करने के बाद इन Fields में अपना Career बना सकते है।

बीएएमएस डॉक्टर की सैलरी

क्या आपके मन में भी यही ख्याल आ रहा है की इस Field में Salary क्या होगी।

BAMS डॉक्टर

BAMS करने के बाद आपकी जो Salary होगी वह 40-50 हजार के आसपास होगी और यह आपकी Job Profile पर भी Depend करती है। लेकिन फिर भी BAMS Course करने के बाद यदि आप एक आयुर्वेदिक डॉक्टर बन जाते है तो आपको बहुत ही शानदार Salary Offer की जाती है।

यह तो बात हुई BAMS Course की अब हम बात करेंगे BHMS Course के बारे में।

Bhms Kya Hai (What is Bhms Course)

बी.एच.एम. एस

BHMS Ka Full Form “बैचलर ऑफ़ होम्योपैथी मेडिसिन एंड सर्जरी” होता है।

Bhms Homeopathic में दी जाने वाली Undergraduate Degree है। इस Degree में Homeopathic Method के चिकित्सा ज्ञान को शामिल किया गया है। Bhms की Degree को पूरा करने के बाद आप Homeopathic चिकित्सा के क्षेत्र में डॉक्टर बनने के योग्य हो जाते है। यह Course भी 5 साल का होता है।

बहुत से Medical College इस Course में Direct Admission देते है। Homeopathic एक Alternative Medical System है। इस चिकित्सा में Natural Healing Power को बढ़ावा दिया जाता है। इसमें Graduation के बाद Student Post Graduation भी कर सकते है।

इस Course को करने के लिए आपकी क्या योग्यताएं होना चाहिए जानते है आगे।

BHMS Kaise Kare

यदि आप Homeopathic में Degree प्राप्त करना चाहते है तो आपको इसकी सभी आवश्यक योग्यताओं को पूरा करना ज़रुरी है।

योग्यता

Bhms में Admission लेने के लिए छात्रों को 12वीं कक्षा Physics, Chemistry और Biology Subject में 50% के साथ उत्तीर्ण होना आवश्यक है।

उम्र

इस Course में Admission के लिए Candidate की Age 17 वर्ष होना चाहिए।

प्रवेश प्रक्रिया

Bhms करने के लिए Candidate को National Level और State Level पर आयोजित होने वाली विभिन्न प्रकार की Entrance Exam में शामिल होना पड़ता है। इस Entrance Exam में प्राप्त अंकों के आधार पर विद्यार्थियों को चुना जाता है। जिसके बाद उन्हे Group Discussion और Personal Interview देना होता है। इसी के आधार पर उनका Selection किया जाता है, फिर उन्हें Shortlist किया जाता है।

जो Candidate Entrance Exam पास कर लेते है वह Counseling के पहले Round में शामिल हो सकते है, उसके बाद दूसरा Round उन Candidate के लिए आयोजित किया जाता है जिनके नाम Waiting List में है।

Bhms Ki Fees Kitni Hai

इस Course को करने के लिए आपको कितनी Fees देना होगी जानते है इसके बारे में।

Bhms करने में 2 से 3 लाख तक Fees लग सकती है। Bhms Course को करने के बाद Candidate के लिए बहुत से Career Options होते है।

BAMS और BHMS के बारे में हमने जानकारी तो प्राप्त कर ली की यह क्या होते है, लेकिन यह दोनों Course एक-दूसरे से बहुत ही अलग है जिसके कारण दोनों में अंतर पाए जाते है।

बीएएमएस और हिंदी में अंतर

BAMS या भीम जो बेहतर है

BAMS Or Bhms में मुख्य रूप से निम्न अंतर होते है। जो आपको आगे बताये गए है।

  • आयुर्वेद एक प्राचीन विज्ञान है। BAMS में आपको वात, पित्त, कफ़ पर आधारित शिक्षा दी जाती है। Bhms में Homeopathic पद्धति से इलाज किया जाता है। जिसमें रोगी का इलाज उसके लक्षणों के आधार पर किया जाता है।
  • Homeopathic पद्धति में औषधि को Minerals, Plants के इस्तेमाल से बनाया जाता है। आयुर्वेदिक पद्धति में औषधि को Natural Herbs, प्राकृतिक चीजों के इस्तेमाल से बनाई जाती है।

BAMS और Mbbs में मुख्यतः कुछ अंतर पाये जाते है जो नीचे दिए गए है।

  • Mbbs Allopathy की एक Medical Degree है। BAMS आयुर्वेद में एक Medical Degree है।
  • Allopathy में बीमारी को कुछ हद तक कम किया जा सकता है लेकिन जड़ से खत्म नहीं किया जा सकता है। आयुर्वेदि में बीमारी को जड़ से खत्म तो किया जा सकता है लेकिन उसमें समय काफी लगता है।

निष्कर्ष

तो दोस्तों यह थी BAMS Course से जुड़ी Complete Information जो आज आपने यहाँ जानी जिसमें आपको BAMS Ki Jankari पूरी तरह से मिली जैसे…

  • BAMS Course क्या है और इस Course को करने के क्या फायदे है।
  • हिंदी में बीएएमएस पूर्ण प्रपत्र और हिंदी में बीएएमएस पाठ्यक्रम विवरण।
  • BAMS Course कैसे करे इसका Syllabus क्या है।
  • BAMS की तैयारी कैसे करे इस Course को करने के बाद Salary Criteria क्या होता है।

तो दोस्तों इस Post के द्वारा अब आपको BAMS Course करने में बहुत ही Help मिलेगी। यहाँ आपको BAMS Course की वो सारी जानकारी मिली जो शायद ही कहीं और एक ही जगह से मिल पाती।

कैसी लगी आपको यह Post, Comment Box में Comment करके बताए और इस Post को अपने दोस्तों के साथ भी Social Media जैसे- Facebook, Whatsapp, Instagram आदि पर ज़रुर Share करें।

जी शुक्रिया

योगदान देने वाला

क्या आपको एडिटोरियल टीम के आर्टिकल पसंद आयें? अभी फॉलो करें सोशल मीडिया पर!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *