Ashok Leyland Kya Hai?

Ashok Leyland: अच्छा दोस्तों क्या आपने कभी ये सोचा है कि हमारी भारतीय सेना जिन मजबूत ट्रको का प्रयोग करती है वो बनती कहा पर है।..??

अगर आपको नहीं पता तो कोई बात नही

हमारे आज के Blog में हम आपको इसकी

पूरी जानकारी देंगे और बात करेंगे भारत की

दूसरी सबसे बड़ी Comercial Vehicle

बनाने वाली कंपनी Ashok Leyland के

बारे में।

Ashok Leyland Company क्या है।..??

अशोक लेलैंड भारत की दूसरी सबसे बड़ी

Comercial Vehicle निर्माता है।

Ashok Leyland हमारे भारतीय सेना के

लिए वाहन बनाने वाली सबसे प्रमुख कंपनी है।

यह विश्व में चौथी सबसे बड़ी Bus

Manufacturer और दसवीं सबसे बड़ी

Truck Manufacturer Company है।

Trucks के निर्माण में दुनिया की Top 16

Companies में से एक है।

इसके साथ ही Ashok Leyland के भारत

सहित दुनिया भर में 9 Manufacturing

Plant हैं।

अब तो यह Construction और Light

Commercial Vehicle के बाजार में भी

उतर गई।

आज Ashok Leyland Electric , CNG

तथा Fuel पर चलने वाली बसों की प्रमुख

Manufacturer Company है।

Ashok Leyland अपने Product कई

अन्य देशों में भी Supply कर रही है। ,

इसमें अफ्रीका, यूरोप, इंडोनेशिया, सऊदी

अरब जैसे कई देश शामिल हैं।

Automotive Research Association

Of India (ARAI) से उत्सर्जन सर्टिफिकेट

पाने वाली Ashok Leyland पहली ऐसी

कंपनी बन गई है जिसने अपने सभी भारी

वाहनों को BS6 मानकों के साथ Launch

किया है।

Ashok Leyland Company का इतिहास –

सन् 1948 में रघुनन्दन शरण ने British

Company ऑस्टिन की सहायता से

Ashok Motors की स्थापना की थी।

रघुनन्दन ने अपने एकलौते बेटे के नाम पर

Company का नाम ‘अशोक’ रखा था।

रघुनंदन शरण एक स्वतंत्रता सेनानी भी थे।

रघुनंदन भारत में ऑस्टिन की कारों को

Manufacturer और Assembled करते थे।

इसका मुख्यालय चेन्नई में स्थित है। 7 सितंबर

सन् 1948 में इसकी स्थापना रघुनंदन सरन

द्वारा की गई।

Ashok Leyland Company के

Foundar रघुनंदन शरन जिन्होंने न केवल

भारत की आज़ादी में अपना महत्वपूर्ण

योगदान दिया बल्कि आजादी के बाद भी

आज तक देश के विकास में अपना बहुमूल्य

योगदान दे रहे हैं।

रघुनंदन शरन आजादी के पहले रावलपिंडी में

अपने पिता के गाड़ियों का Workshop

चलातें थे।

उनके पिता वहां के नामचीन हस्तियों में जाने जाते हैं।

इसी कारण से रघुनंदन शरन का भी लोग बहुत

सम्मान करते थे और ये बात उनको पसंद नही

आता था।

रघुनंदन शरन ने अपनी उच्च शिक्षा

London के Cambridge University

से पुरी कि थी।

वो अपनी पहचान अपने दम पर बनाना चाहते

थे और एक बहुत बड़ा कारोबार खड़ा करना

चाहते थे।

इसलिए 1952 में Ashok Motors And

British Company Layland के बीच बात चीत

शुरू हुई उसी दौरान मद्रास सरकार ने भी उनकी

Company में Invest किया..।।

सन् 1953 में Ashok Leyland Company के

फाउंडर रघुनंदन शरन कि एक विमान दुर्घटना में

मृत्यु हो गई कुछ समय बाद मद्रास सरकार ने

कंपनी की Ownership ले ली और एक बार फिर

से British Company Layland से बात चीत

शुरू कि और 1954 में दोनों Company ने डील

साइन किया और इस तरह Company का नाम

Ashok Motors से बदलकर

Ashok Leyland रख दिया गया।

इस डील से न सिर्फ सरकार को बल्कि

Ashok Leyland को भी बहुत फायदा हुआ।

दोनों Company के मिल जाने से वो भारत के

Foremost Commercial Vehicle

Manufacturer बन गए और दुनिया के

अलग-अलग देशों में विस्तारित होने लगे।

कुछ सालों बाद Ashok Leyland की

Ownership Hinduja Group ने खरीद ली।

आज Ashok Leyland का एक Flagship

Hinduja Group Of Companies के पास है।

Ashok Leyland Company का कार्यक्षेत्र –

दोस्तों जैसा कि हम सभी जानते हैं कि

Ashok Leyland भारत की दूसरी सबसे बड़ी

Commercial Vehicle

Manufacturer Company है।

अब हम आपको जानकारी देंगे कि यह कौन कौन

से Commercial Vehicle Manufactur करती है।

वैसे तो Ashok Leyland के Products की Range बहुत बड़ी है।

जिसमें Truck , Tractors , Tipper , Busses

और Mini Truck मुख्य रूप से शामिल हैं।

Company के एन्नोर (तमिलनाडु) स्थित Plant

में पहली Truck कॉमेट-350 का निर्माण किया

गया जिसे मैंगलोर के टाइल फैक्ट्री को बेचा गया

था। सन् 1954 में भारत सरकार ने कंपनी को

सालाना 1000 ट्रकों के निर्माण के लिए License प्रदान किया था।

इसके साथ ही भारत में डबल डेकर बस का

कांसेप्ट भी Ashok Leyland Company ही

लेकर आई और सन् 1967 में पहली बार देश की

सड़कों में डबल डेकर बस दौड़ी।

उस समय यूरोप, एशिया और उत्तरी अमेरिका के

कुछ देशों में ही डबल डेकर बस चलती थीं।

इस बस का निर्माण स्वदेशी तकनीक से किया गया था।

जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया था कि

Ashok Leyland भारतीय सेना के लिए वाहन

बनाने वाली प्रमुख कंपनी है। सन् 1970 में कंपनी

ने भारतीय सेना के लिए 1000 हिप्पो ट्रकों का

निर्माण किया था, जो हर परिस्थिति का सामना

करने के लिए बनाई गई थीं।

1980 में Company ने अपने दूसरे Plant के

साथ ज्यादा क्षमता वाले बड़े और भारी ट्रकों के

निर्माण की ओर कदम बढ़ा दिया।

हर तरह के Buses और Trucks जैसे भारी

Comercial Vehicle में अपनी सिक्का जमाने

के बाद Ashok Leyland Construction और

Light Commercial Vehicle के Market में

भी उतर गई। Company ने अमेरिकी वाहन

निर्माता जॉन डियर के साथ 2011 में

Aggriment के तहत देश में निर्माण कार्यों में

इस्तेमाल होने वाले बड़े और छोटे वाहनों का

Production भी शुरू कर दिया।

Ashok Leyland Company के Product

Range के विषय में विस्तृत जानकारी

दोस्तों जैसा कि हमने ऊपर आपको बताया कि

Ashok Leyland का कार्यक्षेत्र बहुत ही बड़ा है।

जिसमें बहुत से अलग अलग Product है।

Ashok Leyland की Buses की

Range

  • 12M
  • 12M FESELF
  • Viking
  • Cheetah
  • Eagle
  • Electric Bus
  • Freedom
  • Hawk
  • Hybus
  • Lynx
  • Mitr
  • Janbus – Janbus पूरी दुनिया में सबसे पहला Single Step Front Engine Bus है। ,

जिसे Ashok Leyland के द्वारा Introduce किया गया है।

Ashok Leyland की Trucks की रेंज

  • 1618
  • 2518
  • 3118T 8×4
  • Caption
  • Ecomet
  • U – Truck
  • Boss

Ashok Leyland की Light Commercial Vehicle

  • Dost – ये पहला Product है जिसें Indian Japanese Commercial

Vehicle Joint Venture

Ashok Leyland और Nissan

Vehicle के अंतर्गत बनाया गया है।

Dost यह एक 1.25 Ton Light

Commercial Vehicle (LCV) होती है।

इसको Powered करने के लिए 58 hp

high-torque , 3-Cylinder , Turbo

Charged Common Rail Diesel

Engine की जरूरत पड़ती है।

और उसकी Payload Capacity लगभग

1.25 Tonnes की होती है। ये दोनों BS3

BS4 Version में भी उपलब्ध है।

  • Guru
  • Partner

Ashok Leyland और उसकी Advance Technology

विदेशों में कोई भी नई Technology आती थी तो

उसे हम भारतीयों से रुबरु करवाने का पुरा Credit

Ashok Leyland Company को जाता है।

भारत के पहले Multi Axied Trucks और

CNG Buses को Introduce करने का पुरा

Credit Ashok Leyland Company को जाता है।

इसके साथ ही सन् 2002 में इन्होंने पहला

Hybrid Electric Vehicle Develop किया।

Ashok Leyland ने भारत को न सिर्फ

Commercial Vehicle

Manufactur के तौर पर शीर्ष पर खड़ा किया।

बल्कि हमें नई नई Technology से भी परिचित

करवाया जिसमें Hythane Engine , CNG

Engine , Rear Engine , BS-4 Engine
प्रमुखता से शामिल हैं।

ये वही Technology है जिसे इन्होंने अपने इंजन में प्रयोग किया है।

आइये उनके विषय में कुछ और जानकारी प्राप्त कर लेतें है।

1. Hythane Engine

Ashok Leyland ने Austrelian Company

Eden Energy के साथ मिलकर Hythane

Engine Devlop किया।

इसके साथ ही एक 6-Cylinder , 6-litre ,

(370 cu in) 92KW (123hp) BS-4 Engine

जो कि Hythane (H-CNG) का इस्तेमाल करता है।

यह Hythane एक प्रकार का Blend होता है

जो Natural Gas और लगभग 20% की

Hydrogen का Engine की Efficiency बढ़ाने

के लिए Hydrogen का उपयोग किया जाता है।

2. CNG ENGINE

एक बहुत ही सफल इंजन में से एक है अब करीब

6,000 Buses में इस Technology का प्रयोग किया जाता है।

हम Delhi के सड़कों पर आसानी से इसे देख सकते हैं।

अगर Fuel की बात करे तो CNG के अपने अलग

Fuel Station होते हैं जो कि Traditional

Diese Engine’s की तुलना में कम प्रदूषण करते हैं।

Ashok Leyland का Technical Centar –

Ashok Leyland का Technical Centar

North Chennai के Outskirts के Mijur के

पास VeliVoyalchavadi (VCC) में है।

यह एक State Of The Art Production

Development Facility के तौर पर जाना जाता है।
इसमें Modern Test Tracks और

Component Test Labs है इसके साथ ही ये

भारत के एकमात्र ही Six Poster

Testing Equipment को भी Host करता है।

Ashok Leyland Company की Manufacturing Unit भारत और बाहर –

Ashok Leyland Company की Manufacturing Unit न केवल भारत बल्कि विदेशों में भी स्थित है। पहले भारत के Manufacturing Unit बारे में बात करते हैं।

  • 1. Ennor , Tamilnadu जो कि Ashok Leyland का सबसे पहला Manufacturing Unit ये चेन्नई में स्थित है।

इसे 1948 में Established किया गया था।

  • इसके अंतर्गत Trucks , Buses , Engine’s , Axles इत्यादि बनते हैं।
  • 2. Hosur , Tamilnadu की Krishna Nagari District में

इसके अंतर्गत तीन Plant Adjacent Plant है।
(Hosur 1 , Hosur 2 , CPPS )
यह Trucks Special और Power Units के लिए कार्य करता है।

  • 3. सन् 1982 में Alwar , Rajasthan में Bus Manufacturing Unit का Established किया गया था।

4. Bhandara , Maharashtra ,

सन् 1982 में Gearbox Unit का

Established किया गया।

  • 5. Sengadu Village , Kanchipuram District Tamilnadu जिसे Established किया गया है सन् 2008 में

Ashok Leyland Defence System

के लिए यह एक Technical और

Production System Facility है।

साथ ही साथ एक Nissan Ashok

Leyland Vehicle , के लिए Seperate

Technical Center भी है।

  • 6. Pantnagar , Uttarakhand सन् 2010 में

यहां एक Greenfield Unit का Established किया गया जिसमें

Generation Performance और Cabs बनाया जाता है।

जिसकी Annual Capacity 75,000 है।

विदेशों में Manufacturing Unit –

  • 1. Middle East – में Ras Ki Khaimah UAE ,

जिसको 2011 में Established किया गया।
यह एक Bus Manufacturing Facility

की Joint Venture है जिसे Ashok

Leyland और Ras-Ki-Khaimah

Investment Authority (RAKIA) के

साथ UAE में चलाया जा रहा है।

  • 2. Europe – के Sherburn-In-Elemet England में Optara Bus की Unit स्थापित है।

Ashok Leyland Exports भारत और विदेशों में

दोस्तों अगर हम Ashok Leyland के Exports

की बात करे तो अभी इसकी मार्केट वैल्यू 30,000 Crores से भी ज्यादा है।

Ashok Leyland के टोटल Revenue में करीब

6% से 7% शेयर की Revenue Commercial

Vehicle की Exports से शामिल होता है।

कंपनी आने वाले 5 से 6 सालों में अपने शेयर को

करीब 30% – 38% बढ़ाने की प्लानिंग कर रही है।

Ashok Leyland Key Market –

हम सभी जानते हैं कि Ashok Leyland एक

बहुत ही पुरानी और विश्वशनीय कंपनी है।

Market में इसका Presence बहुत ही Strong और Valuable है।

SAARC COUNTRIES और MIDDLE

EAST COUNTRIES में जो देश आते हैं।

जैसे की Bangladesh , Sri Lanka ,

और Nepal , जैसे देशों में करीब हर साल

3600 – 4000 Units Export की जाती है।

आने वाले समय में इसे बढ़ाकर 6000

Units पहुंचाने की बात चल रही है।.

दोस्तों आज मैंने आपको जानकारी दी है

Ashok Leyland Company से जुड़ी

उसके इतिहास और वर्तमान समय में उसकी

स्थिति के बारे में उम्मीद है आपको ये

जानकारी पसंद आई होगी।

यदि आपको मेरा ये लेख पसंद आया हो तो

मुझे जरूर बताएं।

साथ ही इस लेख को शेयर जरुर करे धन्यवाद।


Read Our Other Articles

Tally क्या है कैसे सीखें और उसके फायदे क्या हैं

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *