मेरा पानी मेरी विरासत योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन”mera pani meri virasat


mera pani meri virasat portal|mera pani meri virasat registration| हरियाणा मेरा पानी मेरी विरासत योजना|मेरा पानी मेरी विरासत योजना ऑनलाइन आवेदन|Mera Pani Meri Virasat Yojana|

updated—किसानों के लिए बड़ा अलर्ट! 25 जून तक कर लें रजिस्ट्रेशन वरना नहीं मिलेंगे 7000 रुपये|धान की फसल छोड़ने पर किसे मिलेंगे 7000 और किसे 10,000 रुपये? जानिए ‘मेरा पानी मेरी विरासत’स्कीम के बारे में और उठाईए लाभगिरते भू-जलस्तर को रोकने व किसानों को कम पानी से पकने वाली फसलों के प्रति प्रोत्साहित करने के लिए कृषि विभाग ने मेरा पानी मेरी विरासत (Mera pani meri virasat) नामक स्कीम शुरू की है. हरियाणा सरकार ने कहा है कि इच्छुक किसान इस योजना का लाभ लेने के लिए 25 जून तक रजिस्ट्रेशन करवा लें. वरना इसका लाभ नहीं मिलेगा. इस स्कीम के तहत 7000 रुपए प्रति एकड़ अनुदान देने का प्रावधान किया है|

प्यारे दोस्तों आज आज हम अपने इस आर्टिकल मै मेरा पानी मेरी विरासत योजना जानकारी देने जा रहे हैं| हम आपको बताएंगे मेरा पानी मेरी विरासत योजना क्या है| हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर जी ने mera pani meri virasat portal शुभारंभ किया है|हरियाणा में किसान गेहूं खरीद से लेकर उसके भुगतान और भूजल बचाने के लिए लाई गई मेरा पानी मेरी विरासत योजना को लेकर आए हैं|  किसान धान की खेती छोड़ने पर प्रति एकड़ 7 हजार रुपये की मदद को नाकाफी बता रहे हैं|

हरियाणा मेरा पानी मेरी विरासत योजना

हरियाणा सरकार वर्तमान सीजन में धान के स्थान पर अन्य वैकल्पिक फसलों की बुआई करने वाले किसानों को 7 हजार रुपये प्रति एकड़ प्रोत्साहन राशि देगी।मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने जल संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश के किसानों से अपील की है।हरियाणा के सीएम मनोहर लाल ने यह भी जानकारी दी कि मेरा पानी-मेरी विरासत योजना के प्रचार के लिए जल्द ही वेब पोर्टल बनाया जाएगा जिस पर किसान अपनी समस्याओं का निदान पाने के लिए आवाज उठा सकेंगे। 

Haryana Mera Pani Meri Virasat Highlights

योजना का नाममेरा पानी मेरी विरासत योजना
इनके द्वारा शुरू की गयीमुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर
लाभार्थीराज्य के किसान
उद्देश्यकिसानो को प्रोत्साहन धनराशि प्रदान करना

मेरा पानी मेरी विरासत योजना की विशेषताएं

  • हरियाणा के मुख्यमंत्री जी ने  जल संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए मेरा पानी मेरी विरासत योजना को लांच किया है |
  • Mera Pani Meri Virasat Yojana के अंतर्गत किसानो को धान की खेती छोड़ने के कोई परेशानी न हो इसलिए राज्य सरकार उन्हें आर्थिक सहायता प्रदान कर रहे है |
  • हरियाणा राज्य के मुख्यमंत्री जी ने इस योजना को लॉन्च करते हुए कहा है कि डार्क जोन में शामिल क्षेत्रों में रहने वाले जो किसान धान की खेती छोड़ देंगे उन्हें सरकार द्वारा 7000 रूपये प्रति एकड़ की प्रोत्साहन धनराशि प्रदान की जाएगी |
  • राज्य के किसान धान को छोड़कर अन्य वैकल्पित फसलों जैसे मक्का , अरहर, मूंग, उड़द, तिल, कपास, सब्जी आदि की खेती कर सकते है |
  • हरियाणा के सीएम मनोहर लाल ने यह भी जानकारी दी कि मेरा पानी-मेरी विरासत योजना के प्रचार के लिए जल्द ही वेब पोर्टल बनाया जाएगा जिस पर किसान अपनी समस्याओं का निदान पाने के लिए आवाज उठा सकेंगे |
  • हरियाणा राज्य के किसी  दूसरे ब्लाक में भी इच्छुक किसान धान की खेती छोड़ना चाहते हैं तो वह भी इस योजना के अंतर्गत अनुदान के लिए आवेदन कर पाएंगे।
  • इससे भावी पीढ़ी के लिए पानी की उपलब्धता भी सुनिश्चित कर सकेंगे।

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के अंतर्गत शामिल किए गए क्षेत्र

  • रतिया
  • सीवन
  • गुहला
  • पीपली
  • शाहजहानाबाद
  • बाबैन
  • इस्माईलाबाद
  • सिरसा आदि

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के अंतर्गत प्रोत्साहन

  • इस योजना के माध्यम से यदि किसान द्वारा खेती की जमीन के 50% या फिर उससे अधिक हिस्से पर धान की जगह मक्का, कपास, बाजरा, दलहन, सब्जियां आदि की फसल उगाई जाती है तो इस स्थिति में किसान को ₹7000 प्रति एकड़ प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाएगी।
  • यह राशि प्राप्त करने के लिए किसान को गत वर्ष के धान के क्षेत्रफल में 50% या फिर 50% से अधिक फसल विविधीकरण करना होगा।
  • यदि किसान द्वारा फसल विविधीकरण के लिए सिंचाई यंत्र खेत में लगाए जाते हैं तो इस स्थिति में किसान को कुल लागत का सिर्फ जीएसटी ही देना होगा।
  • यदि किसान द्वारा फसल विविधीकरण के अंतर्गत फसल का बीमा कराया जाता है तो किसान के हिस्से की राशि का भुगतान सरकार द्वारा किया जाएगा।
  • मक्का बिजाई मशीन पर 40% का अनुदान प्रदान किया जाएगा।
  • मंडियों में मक्का सुखाने के लिए मशीन की स्थापना की जाएगी जिससे कि किसानों को उचित मूल्य का भुगतान किया जा सके।
  • किसान द्वारा इस योजना के अंतर्गत उगाई गई फसल पर सरकार द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद की जाएगी।
  • सभी खंड जिनका भू जलस्तर 35 मीटर गहराई या फिर उससे ज्यादा है एवं पंचायत की भूमि पर धान के अतिरिक्त कम पानी का उपयोग करने वाली फसलों को उगाया जाता है तो इस स्थिति में ग्राम पंचायत को ₹7000 प्रति एकड़ प्रदान किए जाएंगे।
  • वह सभी किसान जिन्होंने फसल विविधीकरण के अंतर्गत धान को जगह फलदार पौधे एवं सब्जियों की खेती की है उनको ₹7000 प्रति एकड़ की दर से भुगतान किया जाएगा। इसके अलावा उनको बागवानी विभाग द्वारा संचालित किए जाने वाली अन्य योजनाओं के प्रावधानों के अनुसार अनुदान राशि का भुगतान भी किया जाएगा।

मेरी विरासत योजना की विशेषताएं

  • हरियाणा सरकार की मेरा पानी मेरी विरासत योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य जैसे कि नाम से ही समझ आ रहा हैं जल का संरक्षण करना है|
  • इस योजना के तहत पानी की बचत कर आने वाली पीढ़ियों के लिए विरासत के रूप में उन्हें ऐसी भूमि उपलब्ध कराई जाएगी जोकि उनके लिए उपयोगी हो सकेगी|
  • ऐसे किसान जोकि पानी के लिए धान की फसलों को छोड़कर अन्य फसलों पर स्विच करते है तो उन्हें प्रोत्साहित किया जायेगा|
  • प्रोत्साहन राशि के रूप में प्रत्येक ऐसे किसानों को जो धान की खेती को छोड़कर अन्य खेती करते हैं उन्हें सरकार की ओर से 7000 रूपये प्रति एकड़ मिलेंगे|
  • पको बता दें कि धान की खेती में अधिक पानी की आवश्यकता होती हैं. ऐसे में यदि इसके स्थान पर मक्का, अरहर, उड़द, ज्वार, कपास, बाजरा, तिल और ग्रीष्म मूंग या वैसाखी मूंग की खेती की जाएँ, तो इनमें पानी का खर्च कम होगा|

Mera Pani Meri Virasat Scheme Haryana के लाभ

    • इस योजना का लाभ हरियाणा के किसान भाई उठा सकते है |
    • मक्का और दलहन की खेती में आवश्यक बुवाई आदि फार्म मशीनरी उपलब्ध कराने के साथ माइक्रो-इरीगेशन और ड्रिप इरीगेशन के लिए 80 फीसदी सब्सिडी भी भी  जाएगी |
    • इस योजना के तहत मक्का, अरहर, मूंग, उड़द, तिल, कपास और सब्जी की खेती की जाएग | इन फसलों की खरीद न्यूनतम समर्थन मूल्य पर की जाएगी।
    • इस योजना के तहत राज्य सरकार द्वारा प्रत्साहन धनराशि प्राप्त करने के लिए किसानो को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना होगा | 

हरियाणा परिवार समृद्धि योजना

मेरा पानी मेरी विरासत योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

  • सर्वप्रथम आवेदक को कृषि विभाग की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा | ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा |
मेरा पानी मेरी विरासत योजना
  • इस होम पेज पर आपको किसान पंजीकरण करे का ऑप्शन दिखाई देगा आपको इस ऑप्शन पर क्लिक करना होगा | ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा |
मेरा पानी मेरी विरासत योजना
  • इस पेज पर आपको रजिस्ट्रेशन दिखाई देगा आपको इस रजिस्ट्रेशन फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकारी जैसे वित्तीय वर्ष , योजना जिला , ब्लॉक , किसान का नाम , पिता या पति का नाम , माता का नाम मोबाइल नंबर आदि भरनी होगी |
  • सभी जानकारी भरने के बाद आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा | इस तरह आपको आवेदन  पूरा हो जायेगा |

बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लिए आवेदन कैसे करे?

  • सबसे पहले आपको योजना की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा। ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा।
  • इस होम पेज पर आपको बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लिए विकल्प का ऑप्शन दिखाई देगा आपको इस ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा।
Mera Pani Meri Virasat
  • इस पेज पर आपको फार्मर रजिस्ट्रेशन के लिए के फॉर्म दिखाई देगा। आपको इस फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकारी जैसे आधार नंबर , सामान्य विवरण , किसान का विवरण , टोटल लैंड होल्डिंग  आदि भरनी होगी।
  • सभी जानकारी भरने के बाद आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा। सबमिट के बटन पर क्लिक करने के बाद आपका रजिस्ट्रेशन हो जायेगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *