प्रधान मंत्री मुद्रा योजना| ऑनलाइन आवेदन| एप्लीकेशन फॉर्म

[ad_1]

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना |मुद्रा योजना|प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक योजना में लोन कैसे प्राप्त करें|मुद्रा लोन योजना|मुद्रा योजना के तहत लोन कैसे प्राप्त करें

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना का मुद्रा ऋण देश के गैर कॉर्पोरेट छोटे व्यापारों के वित्त जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत सरकार का उपक्रम है। इसके पीछे का भाव यह है की छोटे से व्यवसाय के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना जो की भारतीय कामकाजी आबादी में बहुमत को रोजगार प्रदान करता है।अपने शुभारम्भ से लेकर अब तक प्रधानमंत्री मुद्रा  योजना (PMMY) या मुद्रा (माइक्रो इकाइयों विकास पुनर्वित्त एजेंसी) बैंकों में, केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत अब तक Rs.24,000 करोड़  देश भर में वितरित कर दिए गए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज मुद्रा बैंक की शुरुआत करते हुए सभी छोटे उद्यमियों को आसानी से ऋण मुहैया कराने की सरकार की प्रतिबद्धता को दोहराया. उन्‍होंने कहा कि मुद्रा बैंक की स्‍थापना के पीछे सरकार का उद्देश्‍य है कि छोटे उद्यमियों को व्‍यापार के लिए ऋण आसानी से मिले और उससे जुड़े कामगारों को रोजी रोटी की समस्‍या ना हो. प्रधानमंत्री का मत है कि देश का एक बड़ा तबका छोटे उद्यमों से जुड़ा हुआ है, जिन्‍हें बड़े बैंक कर्ज देने में कोताही बरतते हैं.

प्रधानमंत्री ने कहा कि रोजगार सृजन और स्व-रोजगार को बढावा देना सरकार की प्राथमिकता हैउन्होंने कहा ‘छोटे उद्यमियों को ऋण देने से सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) बढेगी और आर्थिक वृद्धि तेज होगी.’ उन्होंने कहा कि छोटा मोटा कारोबार करने वाले कर्जदार ऋण का भुगतान समय पर करते हैं. ‘भारत में बचत करना पुरानी आदत है और इस परंपरागत मजबूती को आगे बढाने तथा स्वरोजगार के अवसर बढाने की आवश्यकता है. इसी से मुद्रा बैंक की कल्पना आई है|

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना

यहाँ छोटे संगठन, कम्पनियाँ और स्टार्ट अप्स भारत में इंटरप्रेंयूर्स हैं. इन्हें सामूहिक रूप से सूक्ष्म इकाई माना जाता है. इनके लिए यह महसूस किया गया है कि इन इकाइयों में वित्तीय समर्थन में कमी है. यदि इन्हें वित्तीय सहायता प्रदान की जाये तो उनमें अभी की तुलना में वृद्धी हो सकती है. मुद्रा का पूरा नाम “माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी लिमिटेड” है, यह एक संस्था है जिसे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत सरकार द्वारा स्थापित किया गया है.

मुद्रा बैंक मन में केवल एक ही लक्ष्य के साथ स्थापित की गई है वह है गैर कॉर्पोरेट छोटे व्यवसायियों के सभी धन की जरूरतों को पूरा करनामुद्रा का पूरा नाम माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट फंड रिफाइनेंस एजेंसी है. इसक‍े जरिए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत छोटे उद्यमियों को 10 लाख रुपये तक के ऋण दिये जायेंगे. वित्तमंत्री अरुण जेटली ने बजट सत्र के दौरान अपने बजट भाषण में मुद्रा बैंक की स्थापना की घोषणा की थी. उन्होंने एक मुद्रा (सूक्ष्म इकाई विकास एवं पुनर्वित्त एजेंसी) बैंक खोलने का प्रस्ताव रखा था, जिसके पास 20,000 करोड़ रुपये की राशि और 3,000 करोड़ रुपये की साख गारंटी राशि होगी|

मुद्रा बैंक बुनियादी तौर पर छोटी इकाइयों को वित्त उपलब्ध कराने की नीति बनाएगी और छोटी इकाइयों को कर्ज देने के लिए फंड उपलब्ध कराएगी. प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत तीन तरह के ऋण दिये जायेंगे. ये तीन प्रकार के ऋण शिशु, किशोर और तरुण होंगे. शिशु योजना के तहत 50 हजार रुपये तक के ऋण दिये जायेंगे. उसी प्रकार किशोर योजना के तहत 50 हजार रुपये से 5 लाख रुपये तक के ऋण दिये जायेंगे और तरुण योजना के तहत 5 लाख रुपये से 10 लाख रुपये तक के ऋण दिये जायेंगे|

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना की श्रेणियां

  • शिशु श्रेणी जैसा कि नाम से ही विदित है यह श्रेणी शुरूआती श्रेणी है. वे सभी व्यापार जोकि अभी – अभी शुरू हुए है और लोन के लिए देख रहे है इस श्रेणी में आते है. इस श्रेणी में आने वाले सभी माइक्रो यूनिट्स के लिए 50,000 रूपये तक का लोन दिया जायेगा. शिशु श्रेणी के लिए ब्याज दर 10 से 12 % तक की रेंज में है.
  • किशोर श्रेणी – यह उनके लिए है जिन्होंने अपना कारोबार शुरू किया है और अब वह प्रतिष्ठित हो रहा है. इस श्रेणी में आने वाली यूनिट्स के लिए 50,000 रूपये से लेकर 5 लाख रूपये तक का लोन देने का प्रावधान है. किशोर श्रेणी के लिए ब्याज दर 14 से 17% तक की रेंज में है.
  • तरुण श्रेणी – वे सभी छोटे कारोबार जो स्थापित हो कर प्रतिष्ठित हो गये है इस श्रेणी के अंतर्गत आते है. उनको उनके व्यापार को बेहतर करने में कुछ वित्तीय आवश्यकता हो सकती है. इसलिए वे सभी छोटे करोबारी इस श्रेणी के अंतर्गत आते हुए 10,00,000 रूपये तक का लोन लेने के लिए पात्र हैं. तरुण श्रेणी के लिए ब्याज दर 16 % से शुरू होती है.

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के लाभ

देश भर में तकरीबन 5.77 करोड़ छोटी कारोबारी इकाइयां हैं, जो छोटे विनिर्माण, व्यापारिक एवं सेवा व्यवसायों का संचालन करती हैं. इनमें से 62 फीसदी इकाइयों का स्वामित्व एससी/एसटी/ओबीसी के हाथों में है. कड़ी मेहनत करने वाले इन उद्यमियों को कर्जों की औपचारिक प्रणालियों तक अपनी पहुंच बनाने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती है. इसलिए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने एक मुद्रा (सूक्ष्म इकाई विकास एवं पुनर्वित्त एजेंसी) बैंक खोलने का प्रस्ताव सदन में लाया|

इस बैंक के पास 20,000 करोड़ रुपए की राशि और 3,000 करोड़ रुपए की साख गारंटी राशि होगी. प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के जरिए मुद्रा बैंक सूक्ष्म-वित्त संस्थानों को पुनर्वित्त प्रदान करेगा. कर्ज देने में एससी/एसटी उद्यमियों को प्राथमिकता दी जाएगी. इन उपायों से युवा, शिक्षित अथवा कुशल कामगारों का विश्वास काफी हद तक बढ़ जाएगा, जो अब प्रथम पीढ़ी के उद्यमी बनने के लिए प्रेरित होंगे. यही नहीं, मौजूदा छोटे कारोबारी भी अपनी गतिविधियों का विस्तार करने में सक्षम हो सकेंगे

मुद्रा बैंक ठेले और खोमचे वालों को भी ऋण उपलब्‍ध करायेगा. इसके आलावे पापड़, अचार आदि का व्‍यापार कर रही कारोबारी महिलाओं को भी इस बैंक की ओर से ऋण मुहैया कराया जायेगा. छोटी मोटी दुकान, ब्यूटी पार्लर, मैकेनिक, दर्जी, कुम्हार तथा ऐसा ही छोटा मोटा धंधा करने वालों को भी ऋण देने का प्रावधान किया गया है

  • मुद्रा लोन का उपयोग कर 50,000 रूपये से 10 लाख के बीच वित्त पाने में सक्षम हो सकते है.
  • बिना किसी प्रक्रिया शुल्क और बिना किसी परेशानी के लोन प्राप्त कर सकते हैं.
  • मुद्रा लोन मुख्य रूप से छोटे और सूक्ष्म स्तर के कारोबार पर ध्यान केन्द्रित करने के बजाय बड़े पैमाने के करोबार पर ध्यान देने के लिए है.
  • मुद्रा लोन पर ब्याज दर अन्य बैंकर की ब्याज दर की तुलना में बहुत कम और सस्ती है

मुद्रा बैंक लोन योजना के तहत लोन कैसे मिलेंगे

अगर कोई भी नागरिक मुद्रा बैंक लोन लेना चाहता है तो उसे इन प्रक्रियाओं का पालन करना होगा :

  • मुद्रा बैंक योजना के तहत लोन के लिए अप्लाई करने के लिए सर्वप्रथम आवेदक को आसपास का बैंक देखना होगा | उससे संबंधित सारी इंटरेस्ट रेट जानकारी लेनी होगी और एक एप्लीकेशन फॉर्म भी भरना होगा
  • एप्लीकेशन फॉर्म को भर कर जरूरी मांगे गए कागजातों और आपके द्वारा शुरू किए जाने वाले व्यवसाय को प्रस्तुत करना होगा |
  • इसके बाद बैंक द्वारा निर्धारित सभी औपचारिकताओं को पूरा करना होगा |
  • जब सभी औपचारिकताएं पूरी हो जाएंगी तभी आपका ऋण मुद्रा बैंक योजना से मंजूर होगा |

मुद्रा बैंक लोन स्कीम – ब्याज दर

अब आप सब लोग यह जानना चाहेंगे मुद्रा बैंक ऋण की ब्याज दर क्या होगी ? दोस्तों हम आपको बता दें मुद्रा लोन के तहत कोई भी ब्याज दर निश्चित नहीं की गई है|

परंतु सामान्यतः मुद्रा लोन की इंटरेस्ट रेट 12% प्रतिवर्ष के आसपास होती है|

मुद्रा योजना से संबंधित और जानकारी लेने के लिए यहां क्लिक करें

दोस्तों आपको प्रधानमंत्री मुद्रा योजना की जानकारीकिस प्रकार कि  लगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं  इससे संबंधित प्रश्न पूछ सकते हैं हम आपके प्रश्नों का जवाब जरुर देंगे| आप हमारे फेसबुक पेज को लाइक और शेयर कर सकते हैं|

 

[ad_2]

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Porno Gratuit Porno Français Adulte XXX Brazzers Porn College Girls Film érotique Hard Porn Inceste Famille Porno Japonais Asiatique Jeunes Filles Porno Latin Brown Femmes Porn Mobile Porn Russe Porn Stars Porno Arabe Turc Porno caché Porno de qualité HD Porno Gratuit Porno Mature de Milf Porno Noir Regarder Porn Relations Lesbiennes Secrétaire de Bureau Porn Sexe en Groupe Sexe Gay Sexe Oral Vidéo Amateur Vidéo Anal