प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना: आवेदन, आत्मनिर्भर भारत अभियान


हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना, PM Suksham Khadya Udyog Unnayan Yojana की शुरुआत छोटे और बड़ा व्यवसाय करने वाले लोगों का व्यवसाय बढ़ाने के लिए की गयी है। इस योजना के तहत राज्य मुख्यालय से उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य द्वारा कहा गया है कि इस योजना के क्रियान्वयन से छोटी इकाइयां नई उड़ान भरेंगी।

इस योजना के माध्यम से जहाँ छोटी इकाइयाँ समृद्धि की ओर बढ़ेंगी, वहीं इस योजना के ज़रिये सूक्ष्म उधोगों को बढ़ावा देकर मील का पत्थर साबित होगी। इस योजना के अनुसार योजना के क्रियान्वयन से भारी संख्या में कुशल और अकुशल श्रमिकों को रोजगार के साधन भी उपलब्ध कराये जायेंगे। इस लेख में हम आपको सहकार मित्र योजना के ऑनलाइन आवेदन, उद्देश्य एवं लाभों के बारे में जानकारी प्रदान करेंगे।

पीएम सुकश्म खाड़ा उद्योग योजना 2021

भारत सरकार द्वारा शुरू की गयी प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना के अंतर्गत देश के छोटे और बड़े व्यवसाय करने वाले लोगों के व्यवसाय को आगे बढ़ाने और राजस्व को बढ़ाने के लिए काम किया जायेगा। इस योजना के अनुसार लोगों को प्रशिक्षण प्रशासनिक सहायता एमआईएस योजना का प्रचार-प्रसार सभी तरह की सुविधाएँ सरकार के ज़रिये निःशुल्क दी जाएगी, क्योंकि इन सभी का कार्य खर्च सरकार द्वारा वहन किया जायेगा।

प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना

इस PM Suksham Khadya Udyog Unnayan Yojana की अध्यक्षता देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा की जाएगी। इस योजना के अंतर्गत केंद्रीय मंडल में 10 हजार करोड़ का व्यय किया जा रहा है। इस योजना के अनुसार इस व्यय का भारत सरकार और राज्य सरकार द्वारा 60:40 का अनुपात रखा जाएगा। योजना के क्रियान्वयन से स्थानीय स्तर पर विशेष कर ग्रामीण क्षेत्र में बृहद रोजगार सृजन होगा और प्रदेश में उत्पादित कृषि औद्यानिक उत्पाद का मूल्य बढ़ेगा।

प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना क्या है?

इस प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा छोटे और लघु व्यवसाय करने वाले उद्यमियों को अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने के लिए और राजस्व बढ़ने के लिए सब्सिडी के तौर पर आर्थिक सहायता प्रदान करने का प्रावधान किया गया है। सभी उधमी अपने व्यवसाय और खाद्य वस्तुओं में सुधार कर सके इसके लिए उनको प्रशिक्षण दिए जाने का प्रावधान किया गया है।

भारत सरकार द्वारा इस योजना की शुरुआत लोगों को रोजगार प्रदान करने के लिए भी की जा रही है, क्योंकि उद्योगो का विकास होगा तो रोजगार के अवसर प्रदान किये जा सकेंगे। इस योजना के अंतर्गत प्रथम वर्ष के खर्च को केंद्र सरकार द्वारा वहन किया जायेगा। इस योजना के अनुसार प्रशिक्षण, प्रशासनिक मदद, एमआईएस, योजना का प्रचार-प्रसार का खर्च केंद्र सरकार द्वारा वहन किया जायेगा।

सुकमा खाड़ा उद्योग योजना की मुख्य विशेषताएं

योजना का नामप्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना
आरम्भ की गईउप मुख्यमंत्री कचव प्रसाद मौर्य द्वारा
लाभार्थीलघु उधमी
आवेदन की प्रक्रियाऑनलाइन
उद्देश्यलघु उधमियों को सब्सिडी पर आर्थिक सहायता
लाभराजस्व में वृद्धि करना
श्रेणीउत्तर प्रदेश सरकारी योजनाएं
आधिकारिक वेबसाइटwww.mofpi.nic.in/

प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना 2021 के उद्देश्य

हम जानते हैं कि देश में कोरोना वायरस महामारी के समय में देश के उद्योगों और राजस्व में बहुत बड़ी कमी आयी है, क्योंकि देश में हुए लॉक-डाउन के कारण सभी उधोग रुक चुके थे, जिसकी वजह से भारी मात्रा में लोग बेरोजगार भी हुए हैं। लोगों के बेरोजगार होने पर देश की आर्थिक व्यवस्था पर भी फर्क पड़ा है। इसी समस्या को देखते हुए भारत सरकार द्वारा PM Suksham Khadya Udyog Unnayan Yojana की शुरुआत की गयी है।

PM Suksham Khadya Udyog Unnayan Yojana

इस प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना का मुख्य उद्देश्य यह है कि देश के उद्योगों का राजस्व बढ़ाया जाये, जिसके अंतर्गत खाद्य पदार्थों में गुणवत्ता और सुरक्षा की चीजों का ध्यान रखा जाएगा। इस योजना के ज़रिये लोगों के लिए रोजगार के अवसर भी पैदा होने भी शुरू हो जायेंगे, जिसके कारण व्यक्ति जिले में लघु वन उत्पादन का भी ध्यान रख सकेगा। इस योजना के अंतर्गत लिए गए कर्ज पर गारंटी की सुविधा का लाभ नेशनल क्रेडिट गारंटी ट्रस्टी कंपनी द्वारा किया जाएगा।

Sookshm Khaada Udyog Yojana के लाभ

  • इस प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना के अंतर्गत कोई भी छोटे और बड़े उद्योगपति दोनों योजना का लाभ उठा सकते हैं।
  • लोगों को अपने व्यवसाय को बढ़ाने के लिए सब्सिडी के तौर पर सरकार द्वारा राशि प्रदान करके आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।
  • प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद उद्योग उन्नयन योजना के माध्यम से व्यक्ति अपने व्यवसाय का राजस्व भी बढ़ा सकेगा।
  • जो लोग इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं उनको सही खाद्य चीज़ें भी मिल पाएंगी।
  • जब लोगो के उद्योग समृद्धि की ओर अग्रसर होंगे तो बाकि लोगों के लिए रोजगार के अवसर भी बनेंगे।
  • इस योजना के माध्यम से खाद्य चीजों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सुरक्षित खाद्य सामग्री भी प्रदान की जाएगी।
  • प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद उद्योग उन्नयन योजना के अंतर्गत महिला उद्यमी भी इस योजना का लाभ उठा सकती हैं।

प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद उद्योग उन्नयन योजना का कार्यान्वयन व विशेषताएं

  • प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना को केंद्र सरकार द्वारा जारी किया जायेगा।
  • योजना का वित्तपोषण केंद्र व राज्य सरकार द्वारा 60-40 के अनुपात में किया जाएगा।
  • केंद्र सरकार द्वारा घोषित किया गया है कि इस योजना को 2020-21 मई चालू किया जाएगा और इस योजना 2024-25 तक चलाया जायेगा।
  • इस योजना के कार्यान्वयन के लिए एक समूह दृष्टिकोण भी रखा जाएगा।
  • यदि चीज़े ख़राब होती हैं तो उनको अलग किया जाएगा और विशेष रूप से उन पर ध्यान दिया जाएगा।

प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद उद्योग उन्नयन योजना आवेदन कैसे करे?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना को चालू करने की केवल घोषणा की गई है। जल्द ही इस योजना का लाभ, लाभार्थियों तक पहुँचाया जायेगा। अभी इस योजना की वेबसाइट सरकार द्वारा लांच नहीं की गई है, जिसके लिए अभी इस योजना में कोई भी शामिल नहीं हो पाएगा। सरकार द्वारा इस योजना के ऑनलाइन आवेदन पोर्टल जल्दी ही जारी कर दिया जाएगा, जिसकी सूचना आपको हमारी वेबसाइट द्वारा आप तक पहुंचा दी जाएगी।

यह भी पढ़े – उत्तर प्रदेश विवाह/शादी अनुदान योजना, ऑनलाइन आवेदन करे

हम उम्मीद करते हैं की आपको प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना से सम्बंधित जानकारी जरूर लाभदायक लगी होंगी। इस लेख में हमने आपके द्वारा पूछे जाने वाले सभी सवालो के जवाब देने की कोशिश की है।

यदि अभी भी आपके पास इस योजना से सम्बंधित सवाल है तो आप हमसे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं। इसके साथ ही आप हमारी वेबसाइट को बुकमार्क भी कर सकते हैं।

पूछे गए प्रश्नों के उत्तर

प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद उद्योग उन्नयन योजना कब लांच की गयी थी?

कैबिनेट की बैठक में 20 May 2020 को इस योजना को मंजूरी प्रदान की गयी थी।

इस योजना के अंतर्गत किस प्रकार से सूक्ष्म इकाइयों को सहायता दी जाएगी?

इस योजना के तहत 10 लाख तक के लागत वाली परियोजनाओं के लिए वेध उधमियों को 35% सब्सिडी दी जाएगी।

कितनी इकाईओं को सूक्ष्म खाद्य उत्थान योजना से लाभ दिया जा सकेगा?

केंद्र सरकार का लक्ष्य दो लाख इकाइयों को इस योजना के तहत लाभ पहुंचाने का है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *