झारखण्ड आजीविका संवर्धन हुनर अभियान 2021: ऑनलाइन आवेदन, एप्लीकेशन फॉर्म


झारखण्ड राज्य सरकार द्वारा झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर अभियान, ASHA Yojana, Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan, झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना की शुरुआत की गयी है। इस योजना का आरम्भ महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए किया गया है। इस लेख में हम झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना के ऑनलाइन आवेदन, पात्रता एवं आवश्यक दस्तावेजों के बारे में जानकारी प्रदान करेंगे।

हम जानते हैं कि झारखण्ड राज्य सरकार महिलाओं के लिए नई-नई योजनाएं प्रस्तुत करती रहती है। इस बार भी  राज्य सरकार द्वारा झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर अभियान 2021 शुरू किया है, जो महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए है। इस अभियान के माध्यम से राज्य की महिलाओं को स्वरोजगार करने का अवसर प्रदान किया जायेगा, जिससे महिलाओं को रोजगार के क्षेत्र में उन्नति की ओर ले जाया जायेगा।

Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan 2021

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर अभियान के माध्यम से राज्य की महिलाओं को कृषि आधारित आजीविका, पशुपालन, वनोपज संग्रहण, उद्यमिता समेत स्थानीय संसाधनों से जुड़े स्वरोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे। इस योजना की शुरुआत महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए की गयी है। इस अभियान के माध्यम से महिलाएं अपना स्वरोजगार को करने में सक्षम होंगी।

झारखंड बाजार मोबाइल ऐप डाउनलोड करे

Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan

राज्य सरकार द्वारा शुरू किये गए Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan के माध्यम से राज्य की 17 लाख ग्रामीण महिलाओं को लाभ प्रदान किया जायेगा, जोकि एक बहुत बड़ी संख्या में महिलाओं को लाभ प्रदान करने की तैयारी की जा रही है। राज्य में बहुत सी महिलाएं ऐसी होती हैं, जो अपना खुद का रोजगार शुरू नहीं कर पाती हैं, परन्तु इस अभियान के माध्यम से यह भी संभव हो सकेगा।

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर अभियान की शुरुआत क्यों की गयी?

झारखण्ड राज्य की अधिकतर महिलाएं अपने घर के खर्च को चलने के लिए सड़क पर हड़िया दारु की बिक्री किया करती थीं, या कुछ ऐसा काम करना पड़ता था, जो महिलाओं के लिए सही नहीं है। यह योजना ऐसी महिलाओं के लिए शुरू की गयी है, जो महिलाएं ऐसा काम करती थी, जो उनको नहीं करना चाहिए। जो काम महिलाओं को मजबुरी में करना पड़ता था, वह अब राज्य सरकार की मदद के कारण नहीं करना होगा।

मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन जी द्वारा कहा गया है, कि महिलाएं यह काम मजबूरी में किया करती थी। अब कोई भी महिला सड़क पर हड़िया दारू नहीं बेच पाएंगी, क्योंकि राज्य सरकार द्वारा हड़िया दारू बेचने वाली महिलाओं को झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना से जोड़ा जायेगा। इस योजना के माध्यम से ग्रामीण महिलाओं को रोजगार तथा स्वरोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे।

Highlights of Aajivika  Samvardhan Hunar Abhiyan

योजना का नामझारखंड आजीविका संवर्धन हुनर अभियान
आरम्भ की गईमुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन के द्वारा
लाभार्थीझारखंड की महिलाएं
आवेदन की प्रक्रियाऑनलाइन
उद्देश्यमहिलाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करना
लाभकृषि आधारित रोजगार के अवसर
श्रेणीझारखण्ड सरकारी योजनाएं
आधिकारिक वेबसाइटcgstate.gov.in/

Jharkhand ASHA Yojana

झारखण्ड राज्य सरकार द्वारा ग्रामीण महिलाओं की आर्थिक सशक्तीकरण को लेकर ASHA Yojana की शुरूआत की गयी है। इसके साथ ही फूलो झानो आशीर्वाद अभियान का शुभारंभ और पलाश ब्रांड का अनावरण मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन द्वारा 29 सितम्बर 2020 को किया गया है। इन योजनाओं का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण महिलाओं को स्वरोजगार से जोड़ना है, जिससे महिलाओं के घर की आर्थिक स्थिति को सुधारा जा सके।

झारखण्ड झारसेवा प्रमाण पत्र ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल ऑनलाइन

झारखण्ड के मिशन सक्षम डेटाबेस में दर्ज करीब 4.71 लाख प्रवासियों में से लगभग 3.6 लाख प्रवासियों के परिवार को ASHA Yojana के तहत लाभ प्रदान किया जायेगा। ग्रामीण विकास विभाग अंतर्गत झारखंड स्टेट लाइवलीहुड परियोजना द्वारा संचालित विभिन्न परियोजनाओं के तहत करीब 1200 करोड़ की राशि का प्रावधान भी किया गया है, जिससे महिलाओं को स्वरोजगार प्रदान किया जायेगा।

पलाश ब्रांड ग्रामीण महिलाओं की श्रमशक्ति का सम्मान

ग्रामीण विकास विभाग द्वारा सखी मंडल की महिलाओं द्वारा बनाये गए उत्पादों को पलाश ब्रांड के तहत बाजार से जोड़ने की तैयारी पूरी कर ली गयी है। झारखण्ड राज्य की ग्रामीण महिलाओं द्वारा बनाये गए उत्पादों को अच्छी पैकेजिंग, ब्रांडिंग एवं मार्केटिंग की सुविधा इस पहल के जरिये दी जायेगी, जिसके माध्यम से महिलाओं के बनाये उत्पादों द्वारा अच्छी आमदनी हो पायेगी।

झारखण्ड राज्य की ग्रामीण महिलाओं को एक सफल उद्यमी के रूप में स्थापित करने में पलाश ब्रांड की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। ग्रामीण महिलाओं की आय में बढ़ोतरी के लिए पलाश मील का पत्थर साबित होगा। सखी मंडल की दीदियां कृषि उत्पाद, मास्क, सैनिटाइजर, सजावटी सामान समेत तमाम उत्पादों का निर्माण कर रही है, पलाश द्वारा इन उत्पादों को एक नया ब्रांड वैल्यू दिया जायेगा।

फूलो-झानो आशीर्वाद योजना का उद्देश्य

झारखण्ड की फूलो-झानो आशीर्वाद योजना के माध्यम से हड़िया-दारु के निर्माण एवं बिक्री से जुड़ीं ग्रामीण महिलाओं का चयन करके सम्मानजनक स्वरोजगार से जोड़ा जायेगा। इस राज्य की 15 हजार से ज्यादा हड़िया-दारु निर्माण एवं बिक्री से जुड़ीं महिलाओं का सर्वेक्षण मिशन नवजीवन के अनुसार किया गया है। इस योजना के माध्यम से महिलाएं हड़िया दारू बेचना छोड़कर एक सम्मानजनक कार्य कर पाएंगी।

राज्य की इन महिलाओं का काउंसेलिंग करके मुख्यधारा की आजीविका से जोड़ने का कार्य किया शुरू किया जायेगा। चयनित महिलाओं को अपनी इच्छा के अनुसार वैकल्पिक स्वरोजगार एवं आजीविका से जोड़ने का कार्य किया जायेगा। कुछ महिलाओं को आजीविका मिशन के तहत सक्रिय कैडर के रूप में चयनित किये जाने का प्रावधान किया गया है, जो अन्य महिलाओं के लिए प्रेरणास्रोत की तरह कार्य करेंगी।

अब सड़क किनारे हड़िया-शराब नहीं बेचेगी महिलाएं

राज्य की महिलाओं को मज़बूरी में हड़िया दारु बेचना पड़ता था, जिससे की उनके परिवार का खर्चा चल सके। झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना के माध्यम से संभव हो सकेगा कि वे अब हड़िया दारु नहीं पाएंगी, क्योंकि Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan 2021 के माध्यम से चयनित महिलाओं को स्वरोजगार प्रदान करने का अवसर प्रदान किया जा रहा है।

झारखण्ड के मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन ने कहा है कि झारखंड में अब कोई भी महिला सड़क पर हड़िया-दारु नहीं बेचेगी। किसी भी महिला को हड़िया-दारु बनाने और बेचने का कार्य मजबूरी में नहीं पड़ेगा, क्योंकि अब उनके पास खुद का रोजगार होगा। हड़िया-दारु बनाने और बेचने वाली महिलाओं को अब आजीविका से जोड़कर तथा हर संभव मदद कर उन्हें मुख्यधारा में लाने का काम सरकार द्वारा किया जायेगा।

पलाश ब्रांड का भूमंडलीकरण

पलाश ब्रांड सरकार का ब्रांड है, जिसे झारखंड सरकार इस ब्रांड को दुनिया में पहचान देना चाहती है। इस ब्रांड को बढ़ने के लिए सरकार ने राज्य की महिलाओं को प्रोत्साहित किया है। मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन द्वारा बताया गया है कि टाटा और अमूल की तरह इसकी सीमाएं भी बहुत आगे तक जाएंगी। मुख्यमंत्री द्वारा लिज्जत पापड़ तथा अमूल के बारे में भी बताया जिसका उत्पादन महिला स्वयं सहायता समूह द्वारा किया जा रहा है।

झारखंड राज्य सरकार पलाश ब्रांड को भी महिला एवं सहायता समूह द्वारा उत्पादन किए गए उत्पाद से आगे ले जाया जायेगा। पलाश ब्रांड के माध्यम से राज्य की महिलाओं का सशक्तिकरण होगा, जिससे उनकी आर्थिक स्थिति में भी सुधार आएगा। इस ब्रांड के अंतर्गत अभी सिर्फ खाने पीने की उत्पाद ही बनाए जा रहे हैं। आने वाले समय में जूते, चप्पल, साड़ी आदि भी पलाश ब्रांड के अंतर्गत बेचने की योजना बनायीं जा रही हैं।

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना के लाभ तथा विशेषताएं

  • झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना झारखंड की हड़िया दारू बेचने वाली महिलाओं के लिए आरंभ की गई है।
  • इस योजना के माध्यम से हड़िया दारु बेचने वाली महिलाओं को रोजगार तथा स्वरोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे, जिसके माध्यम से महिलाओं का सशक्तिकरण होगा।
  • झारखंड की महिलाओं को ASHA Yojana के माध्यम से कृष आधारित आजीविका, पशुपालन, वनोपज संग्रहण, उद्यमिता समेत स्थानीय संसाधनों से जुड़े स्वरोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे।
  • इस योजना के माध्यम से लगभग 17 लाख ग्रामीण महिलाओं को लाभ प्रदान किया जायेगा।
  • राज्य की किसी भी महिला को अपने घर का खर्च चलाने के लिए हड़िया दारु बेचने की आवश्यकता नहीं होगगी।
  • झारखंड की महिलाओं को Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan के माध्यम से रोजगार तथा स्वरोजगार के अवसर प्रदान किये जायेंगे।
  • राज्य के मुख्यमंत्री जी द्वारा इस योजना का बजट सरकार द्वारा 600 करोड़ रुपए का निर्धारित किया गया है।
  • झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना का संचालन ग्रामीण विकास विभाग द्वारा किया जाएगा।

ASHA अभियान पात्रता मानदंड

इस योजना का लाभ लेने के लिए आपको दिए गए पात्रता मानदंडों को अनिवार्य रूप से निम्न प्रकार पूरा करना होगा-

  • यदि आवेदक इस योजना का लाभ उठाना चाहता है, तो उसका झारखण्ड का मूल-निवासी होना अनिवार्य है।
  • इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने के लिए किसी भी शैक्षिक योग्यता की आवश्यकता नहीं हैं।
  • झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना के अंतर्गत हड़िया दारू बेचने वाली महिलाएं आवेदन कर सकती हैं।
  • इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने के बाद  कोई भी महिला हड़िया दारु नहीं बेचेगी।

आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट के आकार की तस्वीर

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना में आवेदन कैसे करे?

जो व्यक्ति झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना के अंतर्गत आवेदन करना चाहते हैं, तो अभी आपको कुछ समय प्रतीक्षा करने की आवश्यकता है। झारखण्ड सरकार द्वारा इस योजना की केवल घोषणा की गई है, जल्द ही राज्य सरकार के माध्यम से इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया बताई जाएगी। जब झारखंड सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया और तिथि बताई जाएगी, हमारी वेबसाइट के माध्यम से आपको सूचित कर दिया जायेगा।

यह भी पढ़े – मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना लिस्ट: आवेदन की स्थिति जांचे

हम उम्मीद करते हैं की आपको झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना से सम्बंधित जानकारी जरूर लाभदायक लगी होंगी। इस लेख में हमने आपके द्वारा पूछे जाने वाले सभी सवालो के जवाब देने की कोशिश की है।

यदि अभी भी आपके पास इस योजना से सम्बंधित सवाल है तो आप हमसे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं। इसके साथ ही आप हमारी वेबसाइट को बुकमार्क भी कर सकते हैं।

पूछे गए प्रश्नों के उत्तर

Jharkhand ASHA Yojana को किसके द्वारा शुरू किया गया है?

इस योजना को झारखड राज्य सरकार के द्वारा शुरू किया गया है।

झारखण्ड आजीविका संवर्धन हुनर अभियान किस वर्ग के लिए शुरू किया गया है?

इस योजना अभियान को योजना राज्य में हड़िया दारू की बिक्री करने वाली महिलाओं के लिए शुरू की गयी है।

इस योजना से झारखण्ड की महिलाओ को क्या लाभ मिलने वाला है?

वह सभी महिलाएं जो पात्र होंगी उन्हें रोजगार के अवसर प्रदान कर समाज की मुख्य धारा से जोड़ने का प्रयास किया जायेगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *